Saturday, 23 January 2016

तलाशता एक जवाब

                            तलाशता एक जवाब 
सवाल बहुत है ज़िन्दगी में, पर जवाब मुझे मिलता क्यों नहीं ,
पूछा खुद से,के दिल तू जीता है ,तो तेरा मुझसे नाता क्यों नहीं ,
साँसे लेता है दिल जब तू ,तो फिर इसमें जीना की आशा क्यों नहीं,
मन में है सवाल कही पर किसी का जवाब आता क्यों नहीं ,
ज़ख़्म हुए हज़ार शरीर पे ,पर इस दिल का दर्द जाता क्यों नही,
लेकर बेहटा सौ दुख अपने, पर गम में साथ कोई आता क्यों नहीं,
जानता  हु ये दुनिया सुख में साथ देती है,
बस मुस्कुराते सवालो के जवाब ढूंढ़ता पर कोई मुझे कुछ समझाता क्यों नहीं.