Saturday, 2 January 2016

हमारे शिक्षक

                 हमारे  शिक्षक 

अँधेरे में जो दीप जलाता है, हमारी ज़िन्दगी में, 
उन्हें  शिक्षक कहते है,
भटकते राहों में जो हमे समझाता है हरदम,
उन्हें शिक्षक कहते  है,
हर गलती की माफ़ी मिल जाये जहा परेशान करने के बाद भी,
उन्हें हम शिक्षक कहते है,
फिर मंज़िल मिल जाये ज़िन्दगी में,
 और याद आये जो हरदम उन्हें हम बच्चे शिक्षक कहते है.