Sunday, 10 April 2016

मोहबत के दो लफ्ज़

मोहबत के दो लफ्ज़

 मन में एक आरज़ू थी की वो मेरा दीदार करे ,
में देर से जाऊ तो वो मेरा इंतज़ार करे ,
में जुल्फ सवारू अपने हातों से ,
तो  मुस्कुराए और शर्मा मेरी मोहबत का इकरार करे