Thursday, 12 May 2016

ज़िन्दगी के कुछ पन्ने

ज़िन्दगी के कुछ पन्ने

शब्दों से गहरा अपना एक जहान है ,
उड़ता फिसलता मेरा एक आसमां है,

अनगिनत ख्वाइशे और अरमान है दिल में ,
और उससे पूरा करने का जज़्बा है,

मुश्किलें है ,तकलीफे भी है इस दुनिया में ,
पर है तो सपनो का बलखता कारवाह है ,

मुसाफिर हु,अपनी तकदीर का ,
लिखता कहानी मन की और देखता खुला आसमान है,

यह शब्द ,यादें,बातें,ख्वाइशें,है मेरी,
जो पाया इसमें अपना और जो न पाया
उसमे जीता मेरा समा है।

कवि निशित लोढ़ा